भविष्य की 10 Technology जो दुनिया का तस्वीर बदल देंगी
  • Post author:
  • Post last modified:November 2, 2020
  • Post category:tech
  • Reading time:2 min(s) read

भविष्य की 10 Technology जो दुनिया का तस्वीर बदल देंगी

टेक्नोलॉजी क्षेत्र दिन प्रतिदिन तरक्की कर रहा है हर रोज कोई ना कोई नई Technology पेश की जा रही है। आने वाले समय में कुछ ऐसी upcoming technologies आ रहे हैं, जो दुनिया का भविष्य बदल देंगी। इस आर्टिकल में हम आपको ऐसी ही Top 10 Future Technologies के बारे में बताने वाले हैं जो हमारा भविष्य बदलने में सक्षम हैं। आइए जानते हैं, आने वाली टॉप 10 टेक्नोलॉजी जो बदलेंगी भविष्य की तस्वीर।

टेक्नोलॉजी व्यवस्था ने दुनिया को इतना बदल दिया है कि आज इंसान तकनीकी के बिना अधूरा है। यहां तक कि सुबह उठने से शाम को सोने तक, हम हर रोज इसका इस्तेमाल करते हैं।

जहां कुछ technology system की वजह से मानव का जीवन आसान हो गया है, वही कुछ टेक्नोलॉजी ऐसी भी है जिन्होंने इंसानी जीवन पर बुरा असर डाला है।

लेकिन फिर भी हम इस बात को नकार नहीं सकते कि टेक्नोलॉजी की वजह से दुनिया की तस्वीर लगातार बदल रही है। जैसे कि यहां पर बताएगी top 10 emerging technologies जो भविष्य में यूजर्स के बहुत काम आएंगी।

भविष्य में आने वाली Top 10 Technologies जो बदल देंगी हमारा आने वाला कल

आने वाले समय में दुनिया भर में सोशल रोबोट्स से लेकर न्यूक्लियर रिएक्टर्स जैसी कई तरह की नयी तकनीकी पेश की जाएगी।

World Economic Forum (WEF) की एक नई रिपोर्ट के के अनुसार कुछ आने वाली तकनीकें ग्लोबल सोशल और आर्थिक व्यवस्था को प्रभावित कर सकती है।

वैसे तो भविष्य में बहुत सारे future technology update आने वाले हैं लेकिन यहां पर हम सिर्फ Top 10 Future Technologies that can Change our World की बात करेंगे।

2020 में टॉप 10 उभरती हुई टेक्नोलॉजी में है।

1. Bioplastics

दुनिया भर में प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है, यह बात तो हम सभी जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि पूरी दुनिया में 15% से भी कम प्लास्टिक को रिसाइकल किया जाता है।

बाकी की सभी प्लास्टिक को ऐसे ही छोड़ने जाता है। जिससे पर्यावरण प्रदूषण बढ़ता है, जोकि केवल इंसानों के लिए ही नहीं बल्कि जानवरों और पूरी प्रकृति के लिए नुकसानदायक है।

इसीलिए वैज्ञानिक बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक (Biodegradable plastic) का समाधान लेकर आए है। इसमें किसी भी तरह का कोई मैटेरियल इस्तेमाल नहीं किया जाता है।

इसे वृक्ष और पौधों के खराब हिस्से के सेल्यूलोज या लिग्निन (Cellulose or Lignin) का उपयोग करके बनाया गया है। Future technologies में भी शामिल है।

Read More : ओसीआर सॉफ्टवेयर (OCR Software) क्या है?

2. Metalenses

किसी भी मोबाइल फोन, स्मार्टफोन, लैपटॉप, कंप्यूटर और अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज में इस्तेमाल होने वाले लैंसेज (lenses) को बनाना किसी नॉर्मल ग्लास कटिंग (normal glass cutting) की तुलना में काफी ज्यादा क्षमताओं का उपयोग होता है।

इन लेंस की क्षमताएं ज्यादा होने पर भी ये छोटे, पतले, लेन्सेस किसी भी मौजूदा ग्लास लैंसेज को रिप्लेस (replace) कर सकते हैं। इन्हें ही metalenses कहते हैं।

आने वाले समय में तकनीकी इतनी एडवांस हो जाएगी कि किसी भी लेंस का विकल्प बनाना और उसे छोटा या बड़ा आकार देना बहुत आसान हो जाएगा।

Read More :Mobile की Battery Life कैसे बढ़ाएं, उसकी जानकारी

3. Social Robots

अब तक विज्ञान ने इतनी तरक्की कर ली है कि रोबोट्स आवाज, चेहरा और भावनाओं को पहचानने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। गूगल असिस्टेंट के बारे में जो मोबाइल उपयोगकर्ताओं के लिए बहुत उपयोगी है।

Google Assistant के अलावा गूगल, फेसबुक जैसे सोशल प्लेटफॉर्म परयूजर्स के इंटरेस्ट का पता करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल होता है।

रोबोट्स यानी असिस्टेंट्सने हमारी जिंदगी को बहुत आसान बना दिया है। इसके जरिए बच्चों को पढ़ाना और बूढ़ों का ख्याल रखना आसान हो गया है। यहां तक कि hackers भी hacking के लिए रोबोट्स का इस्तेमाल करने लगे हैं।

Read More: IP Full Form आईपी का फुल फॉर्म क्या होता है Hindi Me Jankari

4. Smarter fertilizers

हाल ही में फर्टिलाइजर्स में बहुत से सुधार किए गए हैं। ये fertilizers धीरे-धीरे जरूरत पड़ने पर पोषक तत्वों को रिलीज करते हैं। इनकी मदद से किसानों को अच्छी फसल उगाने में आसानी होती है।

लेकिन इनमें अभी भी अमोनिया, यूरिया और पोटाश शामिल है जो वातावरण को प्रदूषित करता है। भविष्य में नए फर्टिलाइजर्स में पहले की तुलना में ज्यादा इकोफ्रेंडली नाइट्रोजन (Eco-friendly Nitrogen) और माइक्रो ऑर्गेनाइज्म (Microorganisms) का उपयोग किया जाएगा, जो पौधों के लिए ज्यादा बेहतर है।

Read More : Computer के Files तथा Folders को Lock कैसे करें ?

5. Disordered proteins

विकारयुक्त प्रोटीन कैंसर जैसी के अन्य बीमारियों की वजह बनते हैं। पारंपरिक प्रोटीन्स के विपरीत इनमें रिजिड स्ट्रक्चर (Rigid Structure) यानी कठोर संरचना की कमी होती है।

इस वजह से इसका आकार बदलने लगता है और बीमारी का इलाज करना बहुत मुश्किल हो जाता है। अब वैज्ञानिकों ने इसके इलाज के लिए एक तरीका खोज निकाला है।

जो इस प्रकार की किसी बीमारी का इलाज या उसे ठीक करने में मदद करते हैं। Future of technologies इस प्रकार की बीमारियों के इलाज को और भी आसान बनाने वाली खोज करने वाले हैं।

Read More : PhotoScape – PC के लिए बेहतरीन Photo Editor in Hindi

6. DNA data storage

हमारे data storage system काफी ज्यादा ऊर्जा (power) का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन ये ज्यादा मात्रा में डाटा स्टोर (store) नहीं रख सकते हैं।

ऐसे में अब DNA आधारित data storage बनाए जा रहे हैं, जो कि कंप्यूटर हार्ड ड्राइव (Hard drive) का लो-एनर्जी (Low Energy) विकल्प है।

इनकी क्षमता बहुत ज्यादा होती है। यहां तक कि इसमें दुनिया का एक वर्ष का सारा डाटा केवल 1 वर्ग मीटर वाले डीएनए क्यूब (DNA Cube) में store किया जा सकता है।

7. Safer nuclear reactors

हम सभी जानते हैं कि न्यूक्लियर पावर कार्बन डाइऑक्साइड नहीं बनाती है लेकिन फिर भी इसके साथ आने वाले रिअक्टर्स सेफ्टी रिस्क (Safety risk) के साथ आते हैं और फ्यूल रॉड को Overhit करते हैं।

अगर इन्हें पानी के साथ में mix किया जाए तो ये हाइड्रोजन बनाते हैं, इससे ये फट सकते हैं। लेकिन अभी जो नए फ्यूल सिस्टम उभरकर आ रहे हैं या भविष्य में आने वाले हैं, उनमें कम हीट बनती है।

अगर ज्यादा hit बनती भी है तो ना के बराबर हाइड्रोजन (Hydrogen) उत्पन्न करती हैं। भविष्य में पुरानी फ्यूल रॉड को नई fuel rod में रिप्लेस किया जा सकता है।

8. Collaborative telepresence

जरा सोचिए, आप किसी वीडियो कॉन्फ्रेंस रूम में बैठे हैं और आप ना सिर्फ एक दूसरे को देख पा रहे हैं बल्कि आज भी मिला पा रहे हैं। यह तकनीकी भविष्य में आने वाली है।

आपने ऑगमेंटेड रियलिटी (Augmented reality) और वर्चुअल रियलिटी (Virtual reality) के बारे में तो सुना ही होगा। लेकिन इन्हें मिला दिया जाए तो क्या होगा?

ऑगमेंट रियलिटी, वर्चुअल रियलिटी,  5G नेटवर्क और एडवांस सेन्सर्स के mixer से अलग अलग कमरों में होते हुए भी एक दूसरे को देखना और हाथ मिलाना संभव है।

यानी कि जब ये future or technologies आ जाएगी तो डॉक्टर अपने मरीजों का रिमोटली इलाज कर पाएंगे। इसके अलावा और भी कई सारे काम आसान हो जाएंगे।

9. Advance food tracking and packaging

क्या आप जानते हैं कि हर वर्ष में करीबन 600 मिलियन लोग खराब और दूषित खाना खाते हैं। ऐसे में यह बहुत जरूरी हो गया है कि इसके सोर्स का पता लगाया जाए और इस समस्या का हल निकाला जाए।

जिस काम को चेक करने में पहले हफ्ते लग जाते हैं थे अब उसे मिनटों में चेक किया जा सकता है।हमारे पास अभी ऐसी कई मशीनें हैं जो पैकेगे सामान को आसानी से ट्रैक कर लेती है।

आने वाले समय में टेक्नोलॉजी इतनी ज्यादा तरक्की कर लेगी की किसी भी प्रकार के पैक सामान को सेंसर की मदद से ट्रैक करने के साथ-साथ उसका खराब या सही होने का भी पता लगाया जा सकेगा।

वही इस प्रकार की पैकिंग इस्तेमाल होने लगेगी, जो उसमें रखे खाने के बारे में यह बताएंगे कि वह खाना कब खराब होने वाला है। ताकि उसके खराब होने से पहले उसका इस्तेमाल किया जा सके।

10. Utility-scale storage of renewable energy

हम सभी समझ सकते हैं कि बिना हवा और सूरज एनर्जी स्टोर कर पाना मुश्किल काम होता है। आने वाले समय में लिथियम-आयन बैटरीज (Lithium Ion battery) स्टोरेज टेक्नोलॉजी से आगे बढ़ जाएंगी।

एक छोटी बैटरी में 8 घंटे से ज्यादा ऊर्जा स्टॉल की जा सकेगी। जय हमारी हर जरूरत है डिमांड पूरी की जा सकती है। मतलब की और बैटरी तकनीकी में आने वाले दशक में ज्यादा विकास होगा।

आप देख सकते हैं कि सौर ऊर्जा जैसी कई नई-नई टेक्नोलॉजी ने पावर प्रॉब्लम को काफी हद तक कम कर दिया है। आने वाले समय में यह और भी आसान होगी।

आखिरी शब्द,

Future of Technologies in Hindi में बहुत सारी तकनीकी आती हैं, लेकिन हमने यहां पर सिर्फ WEF के द्वारा बताई गई 2019 में उभरती हुई टॉप 10 तकनीकों की जानकारी दी है।

मानव जीवन में आने वाली समस्याओं का आसान हल निकालने में टेक्नोलॉजी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आने वाले कल में टेक्नोलॉजी की मदद से हमारा जीवन और भी ज्यादा आसान होगा।

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.